Breaking News

आज का पंचागसोमवार 08 जून 2020जय श्री हरि:नवनीत कुमार मिश्रा


जय श्री हरि
करूणा के सागर श्री हरि जी की असीम अनुकम्पा आप पर
सदैव बनी रहे

आज का पंचाग
सोमवार 08 जून 2020

रुद्र गायत्री मंत्र : ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि, तन्नो रुद्रः प्रचोदयात् ॥ आज का दिन मंगलमय हो

दिन (वार) – सोमवार के दिन क्षौरकर्म अर्थात बाल, दाढ़ी काटने या कटाने से पुत्र का अनिष्ट होता है शिवभक्ति को भी हानि पहुँचती है अत: सोमवार को ना तो बाल और ना ही दाढ़ी कटवाएं । जीवन में शुभ फलो की प्राप्ति के लिए हर सोमवार को शिवलिंग पर पंचामृत या मीठा कच्चा दूध एवं काले तिल चढ़ाएं, इससे भगवान महादेव की कृपा बनी रहती है परिवार से रोग दूर रहते है ।
विक्रम संवत् – 2077.संकल्पादि में प्रयुक्त होनेवाला संवत्सर – प्रमादी.
शक संवत – 1942
अयन – उत्तरायण
ऋतु – सौर ग्रीष्म ऋतु
मास – आषाढ़ माह
पक्ष – कृष्ण पक्ष
तिथि – तृतीया 19:57 PM बजे तक उपरान्त चतुर्थी तिथि है।
नक्षत्र – पूर्वाषाढा 13:46 PM तक उपरान्त उत्तराषाढा नक्षत्र है।
योग – शुक्ल 12:52 PM तक उपरान्त ब्रह्मा योग है।
करण – वणिज 08:22 AM तक उपरान्त विष्टि 19:57 PM तक उपरान्त बव करण है।
द्वितीय करण: विष्टि – 19:56 तक
चन्द्रमा – धनु राशि पर 19:45 PM तक उपरान्त मकर राशि पर।
सूर्योदय – प्रातः 05:58:57
सूर्यास्त – सायं 19:15:22
राहुकाल (अशुभ) – दोपहर 07:30 बजे से 09:00 बजे तक।
गुलिक काल: 14:04 – 15:47
विजय (शुभ) मुहूर्त – दोपहर 12.26 बजे से 12.50 बजे तक।

दिशाशूल – सोमवार को पूर्व दिशा की यात्रा नहीं करनी चाहिये, यदि अत्यावश्यक हो तो कोई दर्पण देखकर घर से प्रस्थान कर सकते है।
पर्व व त्यौहार :- गणेश संकष्ट चतुर्थी, विश्व महासागर दिवस, चंद्रोदय 09 : 51
विशेष – तृतीया तिथि में नमक एवं चतुर्थी को मूली का दान तथा भक्षण दोनों त्याज्य माना गया है। चतुर्थी को मूली एवं तिल का दान तथा भक्षण दोनों त्याज्य बताया गया है। तृतीया तिथि एक सबला और आरोग्यकारी तिथि मानी जाती है। इसकी स्वामी माता गौरी और कुबेर देवता हैं, जया नाम से विख्यात यह तिथि शुक्ल पक्ष में अशुभ तथा कृष्ण पक्ष में शुभफलदायिनी मानी जाती है। _वास्तु टिप्स_

मित्रों, बात पानी के रख-रखाव की जब आती है । तो इसमें आर. ओ. पानी फिल्टर तथा इसी तरह के अन्य सामानों के लिए जहाँ पानी संग्रहीत किया जाता है ।
क्योंकि रसोईघर में पानी की आवश्यकता तो होती ही है । परन्तु आग और पानी एक दुसरे के शत्रु होते हैं । ऐसे में पानी के लिये उपयुक्त स्थान की बात करें कि कहाँ रखें ।
तो एक तो जहाँ अग्नि अर्थात चूल्हे का स्थान होता है, वहीँ बाजू में ही अर्थात उत्तर पूर्व की दिशा (ईशान कोण) में रख सकते हैं ।
पानी से सम्बंधित सभी बातें फिर चाहे वो वास बेसिन ही क्यों न हो इन सबके लिए उत्तर पूर्व यानि ईशान कोण में ही आजू-बाजू में ही सर्वश्रेष्ठ स्थान बताया गया है ।
किचेन के पानी की निकासी दक्षिण या पश्चिम दिशा से बिल्कुल नहीं होनी चाहिए । इसके लिये ईशान कोण के आजू-बाजू अर्थात पूर्वी या थोडा सा उत्तरी तरफ व्यवस्था कर सकते हैं । *_जीवनोपयोगी कुंजियां_*

पीपल वृक्ष की कुछ सुखी टहनियों को स्नान के जल में कुछ समय तक रख कर फिर उस जल से स्नान करना चाहिए । पीपल का एक पत्ता सोमवार को और एक पत्ता जन्म नक्षत्र वाले दिन को लाकर उसे अपने कार्य स्थल पर रखना चाहिए ।
मित्रों, इस उपाय से जीवन में शीघ्र ही बड़े-से-बड़ी सफलता प्राप्त होती है और धन लाभ के मार्ग प्रशस्त होने लगते है । पीपल वृक्ष के नीचे प्रत्येक सोमवार को कपूर डालकर घी का दीपक लगाना चाहिए । *_आरोग्य संजीवनी_*

यदि सर्दी के दिनों में अक्सर गले में खराश होती है तो प्याज का रस काफी मददगार हो सकता है। इसके लिए प्याज के रस में आपको गुड़ या फिर शहद मिलाकर पीने की जरूरत है बस। ठंड के चलते अगर जोड़ों में बहुत दर्द हो रहा हो, तो प्याज के रस को सरसों का तेल मिलाकर मालिश करने से फायदा होगा। नाक से खून आने पर प्याज को सूंघना ही एक बेहतरीन इलाज है। *_गुरु भक्ति योग_*

मित्रों, जबतक आपकी मुश्किलें हल न हो जाय तबतक सूर्यास्त के बाद कभी भूलकर भी दूध न पियें और न ही किसी को दें अथवा पिलायें । कोई भी तीन सफ़ेद फूल लेकर हर सोमवार को और पूर्णिमा को बहती नदी या बहती दरिया में बहायें ।
चन्द्रमा को ठीक करने अथवा चन्द्रमा से शुभ फल प्राप्त करने के लिए मोतियों की माला या चन्द्रकान्तमणि को अपने गले में धारण करें । पूर्णिमा की रात को चन्द्र दर्शन करें व चन्द्रमा को चावल एवं दूध मिलाकर चांदी के बर्तन से अर्घ्य दें ।
सोमवार की अमावस्या को ५ सुहागन स्त्रियों को खीर का भोजन कराने एवं उनको दक्षिणा देने से भी चन्द्रमा जातक को शुभ फल प्रदान करता है । सोमवार को भगवान शिव भक्ति-पूजा भी करने से चन्द्रमा शुभ फल जातक को देता है ।
मित्रों, अगर संयोग से सोमवार को यदि एकादशी भी हो तो शिव भक्ति के साथ-साथ भगवान विष्णु की पूजा भी करनी चाहिए । इस प्रकार का दुर्लभ योग जातक को अतुलनीय फल प्रदान करता ही है ।

“शिवस्य जल प्रियं” इस सूत्र के अनुसार भोलेनाथ जल से ही प्रसन्न हो जाते हैं । इसके साथ ही कई प्रकार की छोटी-छोटी पूजन सामग्री से अर्चन करने से भगवान शिव अत्यन्त प्रसन्न हो जाते हैं ।
साथ ही भगवान विष्णु नाम स्मरण से ही सुख बरसाते हैं । इसलिए इस प्रकार के संयोग में किया गया भगवान शिव एवं भगवान विष्णु का पूजन जातक के सोये हुए भाग्य को भी जगा वाला माना गया हैं ।

•··············••●◆❁✿❁◆●••·············· *_तृतीया तिथि केवल बुधवार की हो तो अशुभ मानी जाती है अन्यथा इस तिथि को सभी शुभ कार्यों में लिया जा सकता है। आज माता गौरी की पूजा करके व्यक्ति अपनी मनोवाँछित कामनाओं की पूर्ति कर सकता है। आज एक स्त्री माता गौरी की पूजा करके अचल सुहाग की कामना करे तो उसका पति सभी संकटों से मुक्त हो जाता है। आज भगवान कुबेर जी की विशिष्ट पूजा करनी चाहिये। देवताओं के कोषाध्यक्ष की पूजा आज तृतीया तिथि को करके मनुष्य अतुलनीय धन प्राप्त कर सकता है।_* *_मित्रों, तृतीया तिथि में जन्म लेने वाला व्यक्ति मानसिक रूप से अस्थिर होता है अर्थात उनकी बुद्धि भ्रमित होती है। इस तिथि का जातक आलसी और मेहनत से जी चुराने वाला होता है। ये दूसरे व्यक्ति से जल्दी घुलते मिलते नहीं हैं बल्कि लोगों के प्रति इनके मन में द्वेष की भावना भी रहती है। इनके जीवन में धन की कमी रहती है, इन्हें धन कमाने के लिए काफी मेहनत और परिश्रम करना पड़ता है।_*

About नवनीत मिश्रा पथरदेवा देवरिया

नवनीत मिश्रा पथरदेवा देवरिया

Check Also

जय श्री हरि आज का पंचागरविवार 07 जून 2020:नवनीत कुमार मिश्रा

जय श्री हरिकरूणा के सागर श्री हरि जी की असीम अनुकम्पा आप पर सदैव बनी …

ज्येष्ठी पूर्णिमा के दिन मांद्य चंद्र ग्रहण पड़ रहा है किस राशि पर असर देखे बांसगांव संदेश की तरफ से :नवनीत कुमार मिश्रा

ज्येष्ठी पूर्णिमा के दिन मांद्य चंद्र ग्रहण पड़ रहा है ग्रहण के समय चन्द्रमा वृश्चिक …

साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून को पड़ रहा है। यह चंद्र ग्रहण उपच्छाया ग्रहण होगा।

. Զเधे Զเधे❀⇝┈┉╣☆❁☆❁☆❁☆❁☆❁╠┉┈⇜❀ॐ नमः शिवायसाल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 5 जून को पड़ रहा …

ज्येष्ठी पूर्णिमा के दिन मांद्य चंद्र ग्रहण पड़ रहा है किस राशि पर असर देखे बांसगांव संदेश की तरफ से :नवनीत कुमार मिश्रा

ज्येष्ठी पूर्णिमा के दिन मांद्य चंद्र ग्रहण पड़ रहा है ग्रहण के समय चन्द्रमा वृश्चिक …

हिन्दू पंचांग ~दिनांक 05 जून 2020दिन – शुक्रवार:नवनीत कुमार मिश्रा

~ आज का हिन्दू पंचांग ~ दिनांक 05 जून 2020 दिन – शुक्रवार विक्रम संवत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: